युवा भारत ,बुज़ुर्ग लोकतन्त्र

कहने को तो भारत को युवा भारत कहते हैं । लेकिन क्या यह प्रतिमान दिखाई देता है । जिस देश में युवाओं की आबादी ज्यादा हो , जिस देश को युवाओं का देश जैसा ख्याति प्राप्त हो । क्या उसे बुज़ुर्गो को लोकतांत्रिक व्यवस्था में नीति निर्धारण का जिम्मा देना ठीक हैं ।
और ऐसा भी  नहीं है कि भारत के युवा इसके लायक नहीं है या काबिल युवाओं की कमी है भारत में । नहीं भाई ,ऐसा एकदम नहीं है । भारत की युवा पीढ़ी अपने काबिलियत का लोहा पूरी दुनिया से मनवा चुकी हैं । फिर ये लाचारी क्यों ? क्यों भारत का युवा इस बात को गंभीरता से नहीं ले रहा ?

राष्ट्रहित ,समाजवाद ,राष्ट्रवाद और जनहित ऐसे मुद्दे हैं जिनसे सतत् गति प्राप्त की जा सकती हैं । नेहरुजी ने पहली पंचवर्षीय योजना मे ही यह दावा किया था कि भारत की जनता को प्राथमिक सुविधाएँ मुहैया करायी दी जायेगी । लेकिन शायद आज मोदीजी को भी बिहार मे यहीं बातें या यूँ कहे कि खोखले वादे फिर से दुहराये जा रहे हैं ।

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: