मीडिया का मन

मीडिया से लोगों का हमेशा  एक विशेष प्रकार का जुड़ाव बना रहता हैं । अगर बात की जाय सैद्धान्तिक व्यवहार के तकाजे़ की तो यह एक माध्यम है , लेकिन जब बात होती है मीडिया के अवसरवाद की तो कहीं ना कहीं , ये अपने कार्यकुशल होने की कसौटी पर खरा नहीं उतर पाता । और भटकाव के तमाम आसार बन जाते हैं ।
एक तरफ तो यह समाज के लोगो को हर नए वारदात से जागरूक करने का दावा करता हैं । तो दूसरी तरफ यह उस समय मौन हो जाता हैं , जब समाज और राष्ट्र को इसकी आवश्यकता बहुत जरूरी सी हो जाती हैं । क्या मीडिया की  जवाबदेही यहीं समाप्त हो जाती हैं ?

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: