विचार का बदलाव से ताल्लुक़ !

विचार और बदलाव का बड़ा ही अजीबोगरीब दास्तान हैं  । बदलाव तब तक अपने वजूद में नहीं आता , जब तक विचार अपना पूरा जोर ना  लगा दे । विचार इक नाव की तरह हैं जो आपको उस पार यानि बदलाव तक पहुँचा देता हैं । कभी भी  नाविक को मत भुलाइयेगा क्योंकि विचार रुपी नाव को बदलाव की दहलीज पर पहुँचाने वाला नाविक आपका धैर्य ही हैं । अगर मेरी बातें आपको समझ में आ गयी होंगी , तो इस कायनात में किसी की औकात नहीं है कि आपको मंजिल तक  पहुँचने   से रोक सके ।।

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: