झाड़ू की नाराज़गी

मै झाडू हूं । मै सफाई का दावा करने वाला झाडू हूं । मै वहीं हूं , जिसको हाथ में लेकर कई राजनेताओं ने इसे औजार के रुप में इश्तेमाल किया और अपनी काया पलट की  । कुछ ने तो मेरे बदौलत देश में एक ऐसा माहौल पैदा कर दिया , कि छोटे – बड़े सभी ने एक साथ  देश की सफाई का बेड़ा अपने सिर पर लिया। एक नई राजनीतिक पार्टी ने तो मुझे अपने शस्त्रागार के रुप में इश्तेमाल भी  किया । उस वक्त मुझे भ्रष्टाचार निरोधी झाड़ू होने का संज्ञा भी मिला । कितने ने तो मुझे हाथ में लेकर अपने साफ सुथरे होने का दावा भी  किया ।

कुछ लोग पकड़े भी  गये , क्योंकि उन्होनें मुझे हाथ में लेने से पहले कूड़ा खुद फैलाया था । पर , मुझे अफसोस इस बात की हैं कि आज देश की राजधानी में ही मेरे होते हुए कचरा पसरा पड़ा हैं ।

जब कुछ लोगो ने आज मेरे विरोधी कचडे़ को मनीष सिसोदिया के आवास पर फेकना शुरू किया । तो उन्होनें सारी गलती निगम के सिर पर मड़ दिया ।

            मुझे लगा कि शायद वे मेरा जिक्र करेंगे । लेकिन उन्होनें किसी आधार पर मेरा नाम लेना सही नहीं समझा , अब ना तो मै सफाई की मुहिम बन सका और ना ही भ्रष्टाचार विरोधी हथियार ।

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: