राष्ट्रवाद और धर्म : किसका कितना साख !

कितने ऐसे लोग हैं जो धर्म को राष्ट्रहित के बीच में कभी भी  नहीं आने देंगें ? मै जानता हूं ऐसे लोगो की संख्या बहुत कम हैं , लेकिन राष्ट्रवाद या Nation First की अवधारणा यहीं कहती हैं कि जो कुछ भी राष्ट्रीय एकता , अखण्डता , आपसी सौहार्द , मानवता , भाईचारा को गलत ठहराने की कोशिश करें ! वह अपनाने लायक नहीं हैं । और जो शिक्षा , विचार , दर्शन , ज्ञान , उपदेश , धर्म अपनाया ना जा सके ! उसका कोई मतलब नहीं होता ।

मेरा मानना हैं कि देश रहेगा , तभी तो हम शांति के साथ बड़ी – बड़ी बातें कर पायेंगे । धर्मो पर नुमाइंदगी करने वाले मक्कारों को सोचना चाहिए कि यह भारत भूमि कितनी पवित्र और पाख है , जिसने कुछ अच्छी बातों और विचारों को धर्म बनने का मौक़ा दिया । धर्म के नाते देश नहीं हैं । देश है इसलिए धर्म पर ठेकेदारी चलायी जा रही हैं ।

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: