बड़े न हूजै गुनन बिन

बड़ा बनने के लिए सबसे सहमति बनानी पड़ती हैं , लोगो में  अपना जगह बनाना पड़ता हैं । बस केवल अपने मन की करनी हों या केवल और केवल अपनी चलानी हो तो बड़े बनने का आस छोड़ देनी चाहिए । मै यहाँ धन में बड़ा होने की बात नहीं कर रहा हूं  । हिन्दी के  बिहारीलाल जो गागर में सागर भरने के सिद्धहस्त हैं । उन्होनें एक पद में कहा था कि ” बड़े न हूजै गुनन बिन ” यानि जब तक आदमी को उसमें विशेष क्या हैं , नहीं पता होता वो बड़ा नहीं हो सकता । बड़े होने और बनने में धरती आसमान का फासला हैं ।
   सबसे पहले तो उसे सबमें घुलना आना चाहिए ।

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: