नहीं थमा राजनैतिक व्यवहारवाद !

राजनेता जितना मन चाहे उतना दावा कर सकते हैं कि वे राजनीति में व्यवहारवाद का समर्थन नहीं कर रहें है , मगर सचाई यहीं है कि आज भी जब चुनावी दंगल का बिगुल बज रहा होता हैं , वे अपने करीबियों को ज्यादा पास लाने की भरपूर कोशिश करते हैं । यह सिलसिला इस कदर बढ़ता चला जा रहा हैं कि कुछ ऐसे भी लोग है , जिन्होंने यह प्रतिज्ञा कर ली हैं कि जब तक अपने पूरे परिवार को राजनीति की धाक में जमा नहीं लूंगा , तब तक सांस नहीं लेने वाला । आप गाँधी राजनैतिक व्यवहारवाद के परिवारवाद से वाकिफ़ होंगे ही , जिसमें नेहरु से चलायमान सिलसिला आज राहुल गाँधी तक आ चुका हैं ,इसे लोकतांत्रिक व्यवस्था में राजाओं जैसा खेमा देखने को मिला । जिसमें कुछ ऐसा भी देखने को मिला कि राजा का उत्तराधिकारी उसका बेटा ही होगा , लेकिन इससे भी  कहीं ज्यादा सफल हुए सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव हैं , जिन्होंने यह तय कर रखा हैं कि मेरा पूरा परिवार ही राजनीति करने में सक्षम हैं । राजनैतिक पारिवारिक व्यवहारवाद में ये सबसे आगे हैं । इन्होने नेहरु की मुहिम को काफी पीछे छोड़ दिया ।

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: