हिन्दी हमसे दूर जा रही हैं !

यह कह देना बड़ा आसान है कि सरल हिन्दी का प्रयोग होना चाहिए ,लेकिन कितना लुप्त करोगे हिन्दी को । पहले टीकायें  ग्रन्थों पर लिखे जाते थे। फिर किताबों की समीक्षा होने लगी ,अब टिप्पणी करते करते लोगो को comment शब्द मिल गया । हिन्दी का पतन हम खुद करते जा रहे हैं , और अध्ययन से बचने के लिए सारी जिम्मेदारी कठिन बनाम आसान पर थोपते जा रहे हैं । अगर कल को आसान ढूंढने की चक्कर में हमारे पास हिन्दी बची ही नहीं तो कौन जिम्मेदार होगा ।
देश के जिम्मेदार और बौद्धिक लोगो मुझे बताओं हिन्दी के वजूद के साथ तुमने कितना खिलवाड़ किया ।

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: