हिन्दी के लिए क्रान्ति की जमीन

1.हिन्दी ने हमें उबारा, हमने हिन्दी को सम्मान की नजर से देखना भी वाजिब नहीं समझा ।

2.कभी हिन्दी का आश्रय लेकर हमने दुनिया को मात दिया  था ।

3.हम अपराधी है हिन्दी की ममता के साथ नाइंसाफ़ी करने वाले।

4.हिन्दी जैसी समृद्ध भाषा पूरी दुनिया के लिए सौभाग्य की बात हैं ।

5.हम हिन्दी से उसका श्रृंगार कम करने पर तूले हैं ।

6.राष्ट्रीय एकता हिन्दी के बिना असंभव है ।

7.राष्ट्रवाद से बड़ा हो गया भाषावाद ,क्यों ?

                                   – अभिजीत पाठक

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: