यथार्थ(News) बनाम साहित्य!

कई बार यथार्थ(News) और साहित्य(Literature) का गठजोड़ इतना नजदीक होता है कि ये कह पाना मुश्किल होता है कि अंतर्वस्तु(Content) पूरा यथार्थ है या साहित्य.

यथार्थ और साहित्य में जो परिभाषीय अंतर है; उसके मुताबिक यथार्थ और साहित्य का एक हो जाना बड़े दूर की कौड़ी है. यहां इस बात को भी समझना होगा कि साहित्यिक पत्रकारिता; पत्रकारिता का एक बिषयक्षेत्र है साहित्य नहीं.

अगर इनकी दार्शनिक निगरानी की जाए तो मिलेगा कि कहीं ना कहीं आलोचक; साहित्य के क्षेत्र का यथार्थ लिखने और बताने का प्रयास करते हैं. यहां ध्यान देने वाली बात है कि साहित्य का यथार्थ और वर्तमान के यथार्थ की निगरानी दो अलग चीजें हैं.

वहीं, जब साहित्य सृजन किसी वर्तमान बिषय पर आधारित हो तो वो भी अवेयरनेस के लिए ही तो हुई. अब यहां असमंजस की स्थिति बन जाती है कि फिर न्यूज़ के उद्देश्य को अगर साहित्य साथ लेकर चलता है तो इनके परिभाषीय अंतर का अस्तित्व क्या हुआ.

यही हालत न्यूज़ का साहित्य बनने का भी है. किसी बड़े मुद्दे पर एक लेखक Intro, body और Conclusion व्यापक स्तर पर Backgrounder के साथ लिख दे तो वो धीरे-धीरे साहित्य होने लगता है.

फिर न्यूज़ और साहित्य कि स्मिता Timeliness और Relevancy को बनाए रखने और दरकिनार कर देने की साम्यावस्था तो नहीं है.
#News #Literature

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: