वो दोस्त, जो हमारे हर पल मुस्कराने की वजह बना !

((ये संस्मरण लिखने के पीछे सबसे महत्वपूर्ण हाथ नितिन सिंह का ही है. या यूं कह दिया जाये कि किसी की कही कोई बात दिमाग में घर कर जाए और निकलने को राजी ही ना हो तो उसे प्रेरणा का नाम दिया जाता है.)) ((इस मामले में मैं उसका आभारी हूं कि अनजाने में हीContinue reading “वो दोस्त, जो हमारे हर पल मुस्कराने की वजह बना !”