साम्प्रदायिक सौहार्द का गुर सिखाता आजमगढ़

बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमाँ जो बस गए इंसाँ की शक्ल देखने को हम तरस गए.   -कैफी आजमी आजमगढ़ का एक हिन्दू परिवार रातों को जागकर पड़ोसियों को रोज़ा रखने में मदद करता है. गुलाब और उनका बेटा सुबह दो घंटे पहले इसलिए जग जाते है ताकि मुस्लिम परिवारों की सेहरी ना छूट जाये.Continue reading “साम्प्रदायिक सौहार्द का गुर सिखाता आजमगढ़”

‘तथाकथित’ बाबरी मस्जिद

किशोर कुणाल की किताब AYODHYA REVISITED  में बाबरी मस्जिद और रामजन्मभूमि का बहुत ही बारीकी के साथ विश्लेषण किया गया है. अपने मिथकों से इतिहास बदलने वाले लोगों को ये किताब जरूर पढ़नी चाहिए क्योंकि कुछ लोगों की बातों का कोई ही सिरा होता नहींं। वे हवा में सुनी सुनाई बात को मुद्दा बनाते हैंContinue reading “‘तथाकथित’ बाबरी मस्जिद”