पुरबिया कौन?

वैसे तो देश के पूरब में बंगाल है, लेकिन पुरबिया वे हैं; जो पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार में रहते हैं. कुछ हद तक मूल भोजपुरी से जिनका सरोकार है, वे सभी. यही हमारी सैद्धांतिक पहचान है. महाराष्ट्र में लोग हमको भईया कहते हैं. भारत में 16 करोड़ लोग भोजपुरी बोलते हैं या जानतेContinue reading “पुरबिया कौन?”

बहुत निराला वो आजमगढ़ है!

नये सफर के पड़ाव पर हम,पुराने पल को पलट रहे हैं.मेरे ज़ेहन के दीवार पर;उस शहर की मिट्टी पटी पड़ी है!जहां पर मैंने जनम है पाया,जहां की माटी को सिर लगाया.हुआ बड़ा जिस जगह का खाकर,बहुत निराला वो आजमगढ़ है.मेरे लड़कपन का जो शहर है. बहुत ही अद्भुत जमीं है अपनी,अत्रि मुनी की तपस्थली है.अनुसूइयाContinue reading “बहुत निराला वो आजमगढ़ है!”

साम्प्रदायिक सौहार्द का गुर सिखाता आजमगढ़

बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमाँ जो बस गए इंसाँ की शक्ल देखने को हम तरस गए.   -कैफी आजमी आजमगढ़ का एक हिन्दू परिवार रातों को जागकर पड़ोसियों को रोज़ा रखने में मदद करता है. गुलाब और उनका बेटा सुबह दो घंटे पहले इसलिए जग जाते है ताकि मुस्लिम परिवारों की सेहरी ना छूट जाये.Continue reading “साम्प्रदायिक सौहार्द का गुर सिखाता आजमगढ़”