आतंकवाद से भी ख़तरनाक है लश्करे मीडिया?

लश्कर-ए-मीडिया एक गिरोह है, जो आतंकवाद से भी नुकसानदेह है. महामारी के समय अगर ये चाहती तो अस्पतालों की खराब व्यवस्था पर रिपोर्ट कर लाखों जिंदगियां बचा सकती थी. लेकिन इससे ऐसा नहीं किया. सुशांत+रिया+कंगना+नेपोटिज्म+अनुराग+बाॅलीवुड ड्रग रैकेट से क्या निकला और कितने भारतवासियों का लाभ हुआ. इसमें दूरदर्शिता और प्राथमिकताओं के मूल्यांकन का इतना अभावContinue reading “आतंकवाद से भी ख़तरनाक है लश्करे मीडिया?”

सर्वशक्तिशाली बनने के मायने अब बदल गये हैं!

प्रलय और संहार की वैदिकी पर कभी यकीन नहीं होता था. जब कोई कहता कि हर मन्वंतर में नये मनु सृष्टि का निर्माण करते हैं तो सनातन में घोर आस्था होने के बाद भी इन बातों पर यकीन नहीं कर पाता था. कोरोना महामारी के दुस्साहस ने इंसान को बता दिया कि सभी प्रकृति औरContinue reading “सर्वशक्तिशाली बनने के मायने अब बदल गये हैं!”

कोविड-19 की वैक्सीन या दवा

कोरोना कोई लाइलाज बीमारी नहीं रहा. दुनियाभर के करीब 4 लाख लोग इससे ठीक हुए हैं. यानी कि इसकी सही दवा का ईजाद कर दुनिया कोरोना वायरस को फैलने से रोक सकती है. रही बात वैक्सीन की तो वो ऐसे रोगों के लिए होती है जो दवाओं से ठीक ही ना हो. वैसे तेजी सेContinue reading “कोविड-19 की वैक्सीन या दवा”