कैमरे के सामने समाज सेवा की कैपचरिंग ?

मैं सोच रहा हूं कि अगर जोहन जान ने कैमरे का आविष्कार ना किया होता तो जिन जरूरतमंदों का लोग थोड़ा बहुत ख्याल रख रहे हैं, वे भूखों मर जाते. कोरोना संकट के दौरान ज्यादातर लोग खाने के पैकेट के साथ कैमरा ले जाना नहीं भूलते. समाज सेवा का ये तरीका नवजागरण काल के मसीहाओंContinue reading “कैमरे के सामने समाज सेवा की कैपचरिंग ?”