भगतसिंह का नशा बनाम सुशांत सिंह का नशा!

जब आप सुशांत सिंह राजपूत मामले में ऐसी अवधारणा बना के चल रहे हैं कि उनका इस्तेमाल हुआ तो आप कहीं ना कहीं उनके इंजीनियर दिमाग पर कमजोरी का धब्बा लगा रहे हैं. क्योंकि इस्तेमाल कोई उसी का कर सकता है, जिसमें इस्तेमाल या शोषण करने वाला शोषित होने वाले से तेज दिमाग का हो.Continue reading “भगतसिंह का नशा बनाम सुशांत सिंह का नशा!”

सुशांत को अपना आदर्श मत बनाइए!

मैं भी सोच रहा हूँ कि साला सुशांत की तरह सुसाइड कर लूं. लोगों की नजरों में कम से कम अच्छा तो बन जाऊंगा. अगर सुसाइड करने से आपकी अच्छाई की परख लोगों को हो रही हो, तो इससे नायाब रास्ता तो और कोई हो ही नहीं सकता. चलिए इसे एक मिशन के तहत अपनाContinue reading “सुशांत को अपना आदर्श मत बनाइए!”