सारे मर्द एक जैसे नहीं होते!

फेमिनिज्म के मुंडेर पर बैठी वो महिलाएं आज चुप हैं, जो एक पुरूष की विकृतियों को समूचे मर्द जमात पर चस्पा कर देती हैं और बड़े आराम से कह देती हैं कि सारे मर्द एक जैसे होते हैं. एक जैसे नहीं होते सारे मर्द और ना ही महिलाएं एक जैसी होती हैं. फेमिनिज्म के पाखंडContinue reading “सारे मर्द एक जैसे नहीं होते!”

‘अपना गम़ लेके कहीं और ना जाया जाए’

अपने ट्विटर हैंडिल से अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने कुछ समय पहले निदा फाजली की एक गजल शेयर की थी. जो उनकी हैंडराइटिंग में है. मेरा मानना है कि किताबों से प्यार करने वाला कोई भी इंसान सुसाइड तो कर ही नहीं सकता. सुशांत के सुसाइड के पीछे उनका असंतोष क्या था, ये तो जांचContinue reading “‘अपना गम़ लेके कहीं और ना जाया जाए’”