एक ‘अज्ञानी’ प्रधानमंत्री के भरोसे मत बैठिये!

2014 के बाद भारतीय राजनीति आस्था का विषय बना दी गई है. अनहद भक्तियुग! कोई प्रधानमंत्री के झूठे दावे के खिलाफ नहीं बोलेगा? नहीं तो उसे गालियाँ दी जाने लगेंगी. उनके अतार्किक और अज्ञानी बातों पर सवाल उठा दे तो उनके समर्थक जान से मारने की धमकियाँ देंगे! एनडीए सरकार की विफलताओं पर बोलने परContinue reading “एक ‘अज्ञानी’ प्रधानमंत्री के भरोसे मत बैठिये!”

अंधेर नगरी में लोकतंत्र(भाग-6)

अरूणाचल प्रदेश भारत का एक राज्य है। अभी हाल ही में जहां के 6 स्थानों का नाम चीनी भाषा में रख दिया गया। 14 अप्रैल को चीन के नागरिक मामलों के मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर अरूणांचल के 6 जगहों के नाम तिब्बती और रोमन लिपि में रखने की घोषणा की थी। चीन भारत केContinue reading “अंधेर नगरी में लोकतंत्र(भाग-6)”

धर्म की पाबंदियों को तोड़ देने की जरुरत

क्या ऐसा नहीं हो सकता है कि सुबह गंगा में डुबकी लगाई जाये, प्रार्थना के लिए मस्जिद में नमाज़ अदायगी हो, संध्यावंदन के लिए गुरुद्वारे जाया जाये और अध्यात्म की सीख चर्च में मिले. धर्म का मतलब है जिसे कोई इंसान स्वेच्छा से अपना सके, धर्म की पाबंदी किसी के द्वारा किसी के ऊपर थोपीContinue reading “धर्म की पाबंदियों को तोड़ देने की जरुरत”