हिन्दुस्तानी परम्परा और ग़ालिब

आज ही के दिन 1869 ई. में मिर्ज़ा ग़ालिब ने अन्तिम सांस ली थी । दिल्ली की पहचान भले ही आज ग़ालिब से होती हो , लेकिन ग़ालिब की सुखन से पता चलता हैं कि उन्होनें कितने संकट के थपेड़े झेले थे । आज विरासत खाक में इसलिए भी  नहीं मिट पाती हैं क्योंकि हिन्दुस्तानी परम्परा से टकराने के लिए फ़न , ग़जल और शायरी को ग़ालिब से टकराना पड़ता ही हैं ।

Abhijit Pathak

Published by Abhijit Pathak

I am Abhijit Pathak, My hometown is Azamgarh(U.P.). In 2010 ,I join a N.G.O (ASTITVA).

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: